Posted by Sumitbabu , Posted 4 days ago

इंग्लैंड में राजतंत्र पर ब्रिटिश राजत्व का महत्व क्या है

Answer:
Answer By : Sumitbabu


  • ब्रिटिश राजत्व का महत्व

इंग्लैंड  में राजा के प्रति श्रद्धा रखना परपरागत बात हो गई | लोग यह समझते है की राजा का होना अनिवार्य है सामाज्य की एकता के लिए राजा राजभक्ति का कोष माना  वहा का राजतंत्र गणतंत्र के हाथ बिक चूका है |  वहा के  विधान में  व्यतित्व से इज्जत प्रदान करता है प्रत्येक आदमी व्यवस्था को अच्छी तरह से नहीं समझ सकता है , अतः व्यक्ति का रहना आवश्यक सा हो जाता है आम जनता तो राजा के व्यक्तिव से ही राजा के पद को समझती है समाज पर उसका प्रभाव ज्यादा पड़ता है | 
  जो राजा राजनीतिज्ञ और अनुभवी होता है उससे देश को बहुत लाभ  होता है मंत्रिमंडल बदलता है परन्तु राजत्व व्यवस्था नहीं बदलती | राजा किसी दल विशेष से सम्बन्ध नहीं रखता है उसके सामने राष्ट्र  और कोई उद्देश्य नहीं रहता है दलबंदी  रहने के कारन यह निष्पक्ष रहता है साधारणत वह मंत्रिमंडल  की राय के विरुद्ध कोई काम नहीं करता है | उसकी सामाजिक स्थति को वहाँ  समाजवादी भी मानते है वह राज्य का प्रधान है और समय समय निति  का संचालन करता है जनता की भलाई के  लिए अनेक काम करना पड़ता है उसकी अनुभवी सलाह से मंत्रीगण लाभ उठाते है | 
    राजा निपक्ष रहता है परन्तु जब कभी वह सक्रीय रूप से राजनीती में भाग लेते  है तब उसपर  जोर  विवाद शुरू हो जाता विधान का संरक्षक माना  जाता है उसे मंत्री की राय से काम करना चाहिए और ऐसे  काम करता भी है 1707 से राजा ने किसी भी बिल को नामंजूरी नहीं  किया | 
किसी भी बिल को अस्वीकार करना भी अब इसके अधिकार से बाहर की बात है  अब  वहा के नियमानुमोदित शासन विधान में राजा द्वारा किसी भी प्रकार के हस्क्षेप करने का अर्थ होता है | वैधानिक संकट मोल लेना | अपने विशेषाधिकार के आधार पर वह मंत्रीओ को बख्यात कर सकता है किन्तु बहुत दिनों से इस अधिकार का व्यवहार नहीं हुआ है | 1936 में ऐसे करने  आया था किन्तु राजा ने ऐसा नहीं किया  आजकल राजा प्रधान काम रह गया है शासन विधान की विशेषताओं की सुरक्षित रखना | 

  • राजतंत्र

प्रथम दो शाशको ने राजसत्ता हथियार की चेष्टा नहीं की , परन्तु जार्ज तृतीय ने राजसत्ता पर राजा का प्रभाव बढ़ाने की चेष्टा की | जार्ज तृतीय प्रयास असफल रहा जार्ज चतुर्थ विलियम के समय में राजा  की प्रतिष्ठा में कोई कमी नहीं आई | 
   1837 में रानी विक्टोरिया गद्दी पर बैठी | उसके शासनकाल में अनेक वैधानिक प्रश्न को लोकप्रिय बनना चाहती थी | उस समय राजनीति में मध्यवर्ग  प्रभाव सबसे अधिक था 
इंग्लैंड में राजतंत्र की व्यवस्था है राजा के नाम पर ही वहां प्रशासन का सारा काम चलता है राजा के पद की ऐतिहासिक व्याख्या प्राचीन काल से ही की जा सकती है | आंग्ल सेक्सकाल में राजा निरकुंश होते थे | ट्यूडर काल में राजाओ की निरकुशंता पर कोई अंकुश नहीं लगाया गया | स्टुअर्ट शासन में राजाओ के अत्याचार का विरोध किया गया और सदी में सर्वोच्च सत्ता पाने के उदेश्य से राजा और पार्लियामेन्ट ने सप्रभुशक्ति प्राप्त कर ली | धीरे धीरे मंत्रिमंडल वास्तविक प्रधानता जाती रही और देश का नामधारी प्रधान  रह गया | आधुनिक व्रिटिश संविधान में राजा का स्थान रबर स्टाम्प  की तरह है | परन्तु राजत्व के इतिहास की इंग्लैंड में एक अटूट श्रंखला है अपवादस्वरूप केवल प्रजातंत्रकाल में राजा के पद को ख़त्म कर दिया गया था , परन्तु उसके बाद 1660 बाद में से आज तक राजतंत्र की परम्परा में कोई व्यतिकर्म उपस्थित नहीं हुआ है | 

  • शासन

अतः मध्यर्ग को  चलना शासन बिधान के दृष्टिकोण से विशेष लाभदायक था उसके समय बेजहॉर्ट राजतत्व का सार्थक एवं प्रशंसक था | 
अनुकूल परिस्थति पाकर महारानी विक्टोरिया वैधानिक कामो में सक्रिय रूप से भाग लेने लगी | वह विधि निर्माण के कार्यो में भी दिलचस्पी लेने लगी | मंत्रियो के चुनाव एवं नियुक्ति में वह अपनी इक्षा व्यक्त करने लगी | ग्रह एवं विदेशो मामलो में भी वह  विचार प्रकट करती थी | 
कभी कभी वह वैधानिक शिष्ठ्ता के बाहर भी चली जाती थी इसका सबसे बड़ा सबूत यह है की 1874 के बाद डिजरेली सेलिसबरी और ब्रुसले थी 
पुरानी पद्धति से खेती से अनेक नुक्सान था | दूर दूर पर थे जो कृषि लगान की दृष्टि से अलाभकारी थे इससे समय और श्रम की भी बर्बादी होती थी | खुले होने के कारन खेत पशुओ द्वारा चरा करते थे | इससे काफी फसल नष्ट हो जाया करती थी इस पुरानी पद्धत्ति में कुछ लाभ भी थे | गांव वाले स्वालम्वी थे और यानी आवश्यक की वस्तुओ स्वय उत्पान कर लिया करते थे | गांव वाले स्वावलम्बी थे  आवश्यक की वस्तुओ स्वय उत्पान कर लिया करते थे | गांव के सभी व्यक्ति काम में लगे रहते थे , इसलिए बेकार की समस्या न थी | गांव में सभी के पास खेती  थे कोई भी भूमिहीन न था अपाहिज बूढ़ रोगी आदि व्यक्तिओ को आश्रम से खाना मिल जाया करता था

Upvote(0)   Downvote   Comment   View(346)
Related Question
विजयनगर साम्रज्य की सांस्कृतिक उपलब्धियों की समीक्षा कीजिए

महात्मा गांधी को ऐसा क्यों लगता था की हिंदुस्तानी राष्ट्रीय भाषा होनी चाहिए

World me pahli bar train kab chala

मुग़ल शासक अकबर की उपलब्धियों का वर्णन कीजिए

1857 के विद्रोह में ग्वालियर के सिंधिया ने किसका साथ दिया

अकबर की धार्मिक नीति पर प्रकाश डालें

सिहू और कान्हू किस विद्रोह के प्रसिद्ध नेता था

दीन-ए-इलाही से आप क्या समझते है

सन 1857 के विद्रोह के कौन-कौन से कारण थे

1857 के क्रांति के स्वरूप की विवेचना करें

वर्तमान समय में प्रेस की भूमिका क्या है

सविनय अवज्ञा आंदोलन के कारणों एवं प्रभावों की विवेचना करें

भदौरा का नाम भदौरा गढ़ कैसे पड़ा और कब पड़ा

स्थायी बंदोबस्त कब कब लागू किया गया था

कार्बन -14 विधि से आप क्या समझते है

स्थायी बन्दोबस्त किसने किया था , तथा इसके क्या क्या प्रावधान था

क्या भारत का विभाजन करना अनिवार्य था

भारतीय संविधान सभा के गठन की प्रक्रिया का वर्णन कीजिए

अयोध्या मुद्दा क्या है

गौतम बुद्ध के जीवन एवं उनके उपदेशों तथा शिक्षाओं का वर्णन करें

Question you may like
किन प्रमाणों के आधार पर हम कह सकते है की जीवन की उत्पत्ति अजैविक पदार्थ से हुई है

कॉर्न लॉ को क्यों समाप्त किया गया था

भारतीय लोकतंत्र की विशेषता बताएँ

भारत में सड़कों के प्रादेशिक वितरण का वर्णन प्रस्तुत कीजिए

what is a visit to a hill station

Prefix + word

संयोजी इलेक्ट्रॉन का क्या महत्व है

कौन कौन सा पदार्थ संश्लेषण का क्षमता रखता है

वर्तमान युग में कॉल सेंटर की क्या उपयोगिता है

गरीबी का दुष्चक्र क्या है

भारतीय कृषि विदेशी मुद्रा प्राप्त करने का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत है। कैसे

बहादुर शाह जफ़र के दोनों बेटा का सिर कलम करके चाँदी की तस्तरी में उपहार के रूप में उसके पास किस क्रुक ब्रिटिश अधिकारी ने भेजा था

पहाड़ी स्थान पर बने मकानों की छतें ढलवाँ क्यों होती है

बच्चों के शारीरिक विकास और क्रियात्मक विकास को सिलसिलेवार बताएँ।

दहीवाली मंगम्मा कहानी की लेखक का परिचय क्या है

सिंधु सभ्यता किससे संबंधित है

आधारभूत संरचना किसे कहते है

पृथ्वी घूम रही है लेकिन हमें क्यों नहीं पता चल रहा है

राष्ट्रीय प्रतीकों के प्रति नागरिकों को क्यों वफादार होना चाहिए

शुद्ध जल विधुत का सुचालक है या कुचालक